बुधवार, 1 जुलाई 2009

दो प्रेमी युगल के बिच सैंडबीच बना मै...

कई बार सच इतना कड़वा होता है कि सामने होते हुए भी सच को स्वीकार करना कठिन हो जाता हैकभी हम सोच भी नही सकते कि हमारे द्वारा दिए जा रहे स्वतंत्रता का उपयोग बच्चे किस प्रकार कर रहे हैमैंने तो इसे अपनी आँखों से देखा और भुक्तभोगी रहा दो महीनो तक
अपने शहर से दिल्ली के लिए पलायन किया तो सबसे पहला प्रश्न रहने के ठिकाना का थाऔर इस प्रश्न का हल बड़ी सुगमता से मिल गयापहले से परिचित एक जूनियर ने बनारस के एक लड़के के साथ कमरा दिला दियाअच्छा लड़का था और सबसे बड़ी बात कि मेरे ही कार्य क्षेत्र मतलब हार्डवेयर और नेट्वर्किंग से जुडा थादो तिन माह कब गुजर गए पता ही नही चलाइस बिच दोनों ने साथ मे कमरा भी बदल लियापहले से बड़ा हवादार कमरा थासब सही चल रहा था (हाँ, इस बिच मेरी जिंदगी मे सब बुरा ही हो रहा था, सब साथ एक एक कर छुट रहे थे)। होली के समय मेरे साथ रह रहे (चलो एक नाम दे देते है, विनय) विनय को घर जाना पड़ाघर से वापस लौटने पर उसके साथ उसकी गर्लफ्रेंड भी कमरे पर गईचलो अच्छा लगा कि मेरा साथी अपने प्यार के लिए समर्पित है और अपनी गर्ल फ्रेंड को काफी मानता हैपरन्तु उसकी दोस्त को शायद कमरा ज्यादा ही पसंद गया और दिन के साथ उसकी रात भी मेरे ही कमरे पर बिताने लगीअब दो प्रेमी हो, एक बिस्तर हो, रात का अँधेरा तो समझ ही सकते है, पर मेरी हालत ख़राब रहती थीसोने की कोशिश करो तो आवाज के कारण नींद नही आतीऔर तुर्रा ये कि सुबह 7 बजे उठकर ऑफिस जाना होता थाहर दिन विनय कहता कि 1-2 दिन मे वो चली जायेगी पर वो 1-2 दिन ही नही रहा था
अभी तक तो करेला ही था पर नीम का आना बाकि थाअब उसके साथ उसके कमरे पर रहने वाली लड़की भी आने लगी थी और 1-2 दिन यूँ ही आने जाने के बाद उसकी रात भी इसी कमरे पर कटने लगीविनय का कभी प्रयास रहता कि मई उसमे दिलचस्पी लेना आरम्भ कर दूपर मेरे लिए तो जानू के अलावा कोई लड़की नही है जिसके लिए कोई कोना बचा होथक कर उसने प्रयास करना बंद कर दियाइसी बिच मेरे उसी जूनियर का आना हुआ जिसने मुझे कमरा दिलाया था और उसके साथ उस लड़की का जोड़ी बन गयाअब एक छोटे से कमरे मे दो कपल और सैंडवीच बना मैसारी रात कमरे मे कामसूत्र के असम लगते और मै रात के 2 बजे तक बहार घूमता और उसके बाद आकर किसी तरह से सोने की कोशिश करते हुए 7 बजे जागकर ऑफिस के लिए भाग निकलता
इतना सब होते हुए भी मै कोशिश कर रहा था कि कमरा छोड़ने की नौबत नही आएदिल्ली आने पर जिस जगह पहला ठिकाना बना उसे यूँ ही छोड़ देने का दिल नही कर रहा थापर स्थिति बाद से बदतर होती जा रही थीनींद पुरा नही होने से मै बीमार सा रहने लगा थाइस तरह से दो माह बीत गएअभी भी विनय हर दिन कहता कि अज या कल वो चली जायेगीपर ना वो आज रहा था ना ही कोई कलअंत मे मैंने कमरा छोड़ने का निश्चय कर लिया और जून माह मे अपना कमरा बदल लियाआज संयोग से रस्ते मे विनय से मुलाकात हो गई और पता चला कि अभी भी सब उसी कमरे मे रह रहे है
अच्छा हुआ जो मैंने अपना ठिकाना बदल लिया। पर मन मे कुछ प्रश्न बुरी तरह से घूम रहे है। क्या बच्चे माता पिता के दिए स्वतंत्रता के दुरपयोग नही कर रहे? क्या माता पिता अपने बच्चों के ऊपर अन्धविश्वाश कर उन्हें गलतिया कराने के लिए खुला नही छोड़ रहे? मैंने दो माह तक जो देखा वह प्यार नही बस वासना का ज्वार था। मेरा जूनियर जो अपने कम मे लगा था, लड़की के साथ सोने के लिए परीक्षा की तयारी करने की बजे उसके हाथ पैर की मालिश मे लगा रहता था। शायद भारत का सामाजिक ताना बना तेजी से बदल रहा है, पर बदलाव की लहर न हो कर ये सुनामी का तेज तूफान दिख रहा है जहा हर संस्कार बहे चले जा रहे है। मैंने दिल्ली आईआईटी और आसपास के क्षेत्रों मे चल रहे खेल को बहुत अच्छे से देखा। हो सकता है कि छोटे शहर से आने के कारण वह के छोटे संस्कार बोल रहे हो, पर इस पतन के साथ मै सामंजस्य नही बिठा पा रहा हूँ। हाँ इतना जरुर है कि आज की पीढी इसे बहुत सामान्य तरीके से ले रही है और इसमे उन्हें कोई बुरे नजर नही आ रहा।

2 comments:

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi 1 जुलाई 2009 को 5:56 pm  

आप वहाँ से छूट आए, यही बहुत है। जो करेंगे, भुगतेंगे। बालिगों को कौन समझा सकता है? मां बाप भी नहीं। शायद कच्ची उम्र में ही सब कुछ समझा दिया होता।

RAJIV MAHESHWARI 2 जुलाई 2009 को 11:48 am  

वाकेई आप ने एक गंभीर समस्या से दो चार कराया है.....मेरे को लगता है आप का पहले वाला प्रशन "क्या बच्चे माता पिता के दिए स्वतंत्रता के दुरपयोग नही कर रहे?" सही है .....दुरपयोग ही तो कर रहे है...

एक टिप्पणी भेजें

नया क्या लिखा गया है

आपके विचारों का स्वागत है

कंप्यूटर में कोई समस्या है??

ProBlogger Template Managed by Abhishek Anand And created by   ©Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP